GPS, GIS – सटीक खेती की उन्नत तकनीक!

निरंतर उभरती विकसित तकनीकों के साथ हमें परंपरागत कृषि तकनीक और खेती पद्धतियों में भी बदलाव लाने की जरुरत है, ताकि कृषि सुधार के साथ उत्पादन और किसानों की आय में भी वृद्धी हो सकें। अब GPS तकनीक के विकसित होने से किसान और कृषि सेवा प्रदाता और भी अधिक प्रगतिशील हो रहे हैं। वहीं GIS किसानों को विभिन्न चरों को अपनाने, व्यक्तिगत फसलों के स्वास्थ्य की निगरानी करने, किसी विशेष क्षेत्र से उपज का अनुमान लगाने और फसल उत्पादन को बढ़ावा देने में निरंतर सहायता करता है।

GPS या ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम एक उपग्रह-आधारित प्रणाली है जो सभी मौसम स्थितियों में स्थान और समय की जानकारी प्रदान करती है। GPS उपज मानचित्रों के निर्माण में सहायक है। ये मानचित्र एक खेत के विभिन्न क्षेत्रों में फसल की उपज का प्रतिनिधित्व करते हैं। इस डेटा का विश्लेषण करके किसान उपज को प्रभावित करने वाले कारकों जैसे मिट्टी की गुणवत्ता, नमी और कीट संक्रमण को बेहतर ढंग से समझ सकते हैं, जिससे उन्हें अधिक प्रभावी कृषि रणनीतियाँ विकसित करने में मदद मिलती है।

कृषि के लिए GIS भी सबसे बेहतरीन अनुप्रयोगों में से एक सटीक खेती है। GIS तकनीक किसानों को विस्तृत क्षेत्र मानचित्र बनाने की अनुमति देती है, जिससे वे अपने खेतों में परिवर्तनशीलता को समझ पाते हैं। वे उर्वरक अनुप्रयोग, सिंचाई और रोपण रणनीतियों के बारे में सूचित निर्णय लेने के लिए मिट्टी की संरचना, नमी के स्तर और फसल की उपज जैसे डेटा की एक विस्तृत श्रृंखला का आसानी से विश्लेषण कर सकते हैं। यह सटीक दृष्टिकोण लागत और पर्यावरणीय प्रभाव को कम करते हुए उपज को अधिकतम करने में मदद करता है।
कृषि में GIS और GPS का एकीकरण स्मार्ट और सटीक खेती की दिशा में एक महत्वपूर्ण उड़ान है। ये प्रौद्योगिकियां किसानों को उपज बढ़ाने, लागत कम करने और पर्यावरणीय प्रभाव को कम करने में मदद करती है और संचालित डेटा के आधार पर निर्णय लेने में सक्षम बनाती है। GIS और GPS, खेती के भविष्य को आकार देने में निस्संदेह अभिन्न भूमिका निभाते रहेंगे।

किसानों को अधिक सक्षम एवं सशक्त बनाने में एग्रीबाज़ार भी अपनी महत्त्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। विकसित प्राद्यौगिक एवं तकनीकी तंत्रों के शक्ति से एग्रीबाज़ार अपनी खास सुविधाएं लेकर आया है, जिनके माध्यम से किसान अपना कृषि कार्य कम लागत एवं संसाधनों और उच्च तकनीकों के साथ अल्पावधि में पूरा कर अधिक मुनाफा प्राप्त कर सकते हैं।

More Articles for You

खरीफ सीजन 2024: फसलों की बुआई से पहले किन बातों का रखें ध्यान?

देश में खरीफ फसलों की प्री-मॉनसून बुआई शुरू हो गई है। इस मौसम का लाभ उठाने के लिए किसान अब …

How is modern farming technology in India improving farmers’ lives?

Precision agriculture is trending in India and growing exponentially. Not to forget, such modern farming techniques are essential to improving …

मल्टीलेयर फार्मिंग की तकनीक अपनाएं, कम लागत में अधिक मुनाफा कमाएं!

अगर आप कम खेती में भी मोटी कमाई करना चाहते हैं, तो बस आपको अपनाना होगा ‘मल्टीलेयर फार्मिंग’ यानी बहुस्तरीय …

WhatsApp Connect With Us